[New] Income Tax Declaration Scheme{IDS} Explained – Key points for You !

| By Proudful Indian | Filed in: latest updates.

IDSNew Income Tax Declaration Scheme Launched – Complete Explanation, along with key points | Find out what are the rules, what will be the penalty etc.

Demonetization process has slowly started showing its significance. It has helped to reduce the black money to great extent. However, the government is also taking other measures to catch the defaulters and get rid of existing black money. On 28th November 2016, PM Modi has launched a new income tax declaration scheme especially to get rid of black money from the country and catch the tax defaulters. Such people have been asked to disclose the income by 30th November 2016. Many new rules have been added and there is a provision for penalty in case of undeclared income. In this article, we are going to explain the new income tax declaration scheme in as simple as possible words. Kindly read the article carefully to understand every aspect of New Income Tax declaration scheme.

Note – Please note down that IDS stand for Income Declaration Scheme or Income Disclosure scheme, one and same thing

IDS – Income Declaration Scheme Explained

The income tax department has made few significant announcements under this scheme –

  • Old notes of Rs. 500 & 1000 must be submitted in the banks by the end of December 2016. All deposits over Rs. 2.5 lakh will be studied
  • If the existence of black money/Untaxed money is acknowledged, then 50 percent of that amount has to be paid in taxes
  • If you have undisclosed income, do declared it by 30th Novemeber
  • A scheme named Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana (PMGKY) has been launched. Read more about this HERE

New Income Declaration Scheme (IDS) 

Here is the comparison of the provisions, find out which provisions will be changed and which will remain unchanged as per the income declaration scheme

PARTICULARSEXISTING PROVISIONSPROPOSED PROVISIONS
General provision for penalty
PENALTY (Section 270A) 
Under-reporting – @50% of tax 
Misreporting – @200% of tax
(Under-reporting/ Misreporting income is normally difference between returned income and assessed income)
No changes proposed
Provisions for taxation & penalty of unexplained credit, investment, cash and other assets
TAX  (Section 115BBE)
Flat rate of tax @30% + surcharge + cess 
(No expense, deductions, set-off is allowed)
TAX  (Section 115BBE)
Flat rate of tax @60% + surcharge @25% of tax (i.e. 15% of such income). So total incidence of tax is 75% approx.
 (No expense, deductions, set-off is allowed)
PENALTY (Section 271AAC) 
If Assessing Officer determines income referred to in section 115BBE, penalty @10% of tax payable in addition to tax (including surcharge) of 75%. 
Penalty for search  seizure cases
Penalty (271AAB)
(i) 10% of income, if admitted, returned and taxes are paid
(ii) 20% of income, if not admitted but returned and taxes are paid
(iii) 60% of income in any other case
Penalty (271AAB)
(i) 30% of income, if admitted, returned and taxes are paid
(ii) 60% of income in any other case
Taxation and Investment Regime for Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana, 2016’ (PMGKY)New Taxation and Investment Regime
Undisclosed income in the form of cash & bank deposit can be declared:
(A) Tax, Surcharge, Penalty payable
     Tax                   @30% of income declared
       Surcharge          @33% of tax
       Penalty              @10% of income declared
       Total                  @50% of income (approx.)
(B)  Deposit
     25% of declared income to be deposited in interest    
     free Deposit Scheme for four years.

PM Modi’s Speech Regarding IDS – Tax Declaration Yojana

Here is what our PM said about income disclosure scheme in the latest Mann ki Baat Episode

मेरे प्यारे देशवासियो, आज मैं एक बात के लिए विशेष आग्रह करना चाहता हूँ। एक ज़माना था, जब taxes इतने व्यापक हुआ करते थे कि tax में चोरी करना स्वभाव बन गया था। एक ज़माना था, विदेश की चीज़ों को लाने के सम्बन्ध में कई restriction थे, तो smuggling भी उतना ही बढ़ जाता था, लेकिन धीरे-धीरे वक्त बदलता गया है। अब करदाता को सरकार की कर-व्यवस्था से जोड़ना अधिक मुश्किल काम नहीं है, लेकिन फिर भी पुरानी आदतें जाती नहीं हैं। एक पीढ़ी को अभी भी लगता है कि भाई, सरकार से दूर रहना ज्यादा अच्छा है। मैं आज आपसे आग्रह करना चाहता हूँ कि नियमों से भाग कर के हम अपने सुख-चैन गवाँ देते हैं। कोई भी छोटा-मोटा व्यक्ति हमें परेशान कर सकता है। हम ऐसा क्यों होने दें? क्यों न हम स्वयं अपनी आय के सम्बन्ध में, अपनी संपत्ति के सम्बन्ध में, सरकार को अपना सही-सही ब्यौरा दे दें। एक बार पुराना जो कुछ भी पड़ा हो, उससे मुक्त हो जाइए। इस बोझ से मुक्त होने के लिए मैं देशवासियो को आग्रह करता हूँ। जिन लोगों के पास Undisclosed Income है, अघोषित आय है, उनके लिए भारत सरकार ने एक मौका दिया है कि आप अपनी अघोषित आय को घोषित कीजिये। सरकार ने 30 सितम्बर तक अघोषित आय को घोषित करने के लिए विशेष सुविधा देश के सामने प्रस्तुत की है। जुर्माना देकर के हम अनेक प्रकार के बोझ से मुक्त हो सकते हैं। मैंने ये भी वादा किया है कि स्वेच्छा से जो अपने मिल्कियत के सम्बन्ध में, अघोषित आय के सम्बन्ध में सरकार को अपनी जानकारी दे देंगे, तो सरकार किसी भी प्रकार की जांच नहीं करेगी। इतना धन कहाँ से आया, कैसे आया – एक बार भी पूछा नहीं जाएगा और इसलिए मैं कहता हूँ कि अच्छा मौका है कि आप एक पारदर्शी व्यवस्था का हिस्सा बन जाइए। साथ-साथ मैं देशवासियों को कहना भी चाहता हूँ कि 30 सितम्बर तक की ये योजना है, इसको एक आखिरी मौका मान लीजिए। मैंने बीच में हमारे सांसदों को भी कहा था कि 30 सितम्बर के बाद अगर किसी नागरिक को तकलीफ़ हो, जो सरकारी नियमों से जुड़ना नही चाहता है, तो उनकी कोई मदद नही हो सकेगी। मैं देशवासियों को भी कहना चाहता हूँ कि हम 30 सितम्बर के बाद ऐसा कुछ भी ना हो, जिससे आपको कोई तकलीफ़ हो, इसलिए भी मैं कहता हूँ, अच्छा होगा 30 सितम्बर के पहले आप इस व्यवस्था का लाभ उठाएँ और 30 सितम्बर के बाद संभावित तकलीफों से अपने-आप को बचा लें।

मेरे देशवासियो, आज ये बात मुझे ‘मन की बात’ में इसलिए करनी पड़ी कि अभी मैंने हमारे जो Revenue विभाग -Income Tax, Custom, Excise – उनके सभी अधिकारियों के साथ मैंने एक दो-दिन का ज्ञान-संगम किया, बहुत विचार-विमर्श किया और मैंने उनको साफ-साफ शब्दो में कहा है कि हम नागरिकों को चोर न मानें। हम नागरिकों पर भरोसा करें, विश्वास करें, hand-holding करें। अगर वे नियमों से जुड़ना चाहते हैं, उनको प्रोत्साहित करके प्यार से साथ में ले आएँ। एक विश्वास का माहौल पैदा करना आवश्यक है। हमारे आचरण से हमें बदलाव लाना होगा। Taxpayer को विश्वास दिलाना होगा। मैंने बहुत आग्रह से इन बातों को उनसे कहा है और मैं देख रहा था कि उनको भी लग रहा है कि आज जब देश आगे बढ़ रहा है, तो हम सबने योगदान देना चाहिए। और इस ज्ञान-संगम में जब मैं जानकारियाँ ले रहा था, तो एक जानकारी मैं आपको भी बताना चाहता हूँ। आप में से कोई इस बात पर विश्वास नहीं करेगा कि सवा-सौ करोड़ के देश में सिर्फ और सिर्फ डेढ़ लाख लोग ही ऐसे हैं, जिनकी Taxable Income पचास लाख रूपये से ज्यादा है। ये बात किसी के गले उतरने वाली नहीं है। पचास लाख से ज्यादा Taxable Income वाले लोग बड़े-बड़े शहरो में लाखों की तादाद मे दिखते हैं। एक-एक करोड़, दो-दो करोड़ के Bungalow देखते ही पता चलता है कि ये कैसे पचास लाख से कम आय के दायरे में हो सकते हैं। इसका मतलब कुछ तो गड़बड़ है, इस स्थिति को बदलना है और 30 सितम्बर के पहले बदलना है। सरकार को कोई कठोर कदम उठाने से पहले जनता-जनार्दन को अवसर देना चाहिए और इसलिए मेरे प्यारे भाइयो-बहनो, अघोषित आय को घोषित करने का एक स्वर्णिम अवसर है। दूसरे प्रकार से, 30 सितम्बर के बाद होने वाले संकटों से मुक्ति का एक मार्ग है। मैं देश की भलाई के लिये, देश के गरीबों के कल्याण के लिये आपको इस काम में आने के लिए आग्रह करता हूँ और मैं नही चाहता हूँ कि 30 सितम्बर के बाद आपको कोई तकलीफ़ हो।

Official Notifications Regarding IDS (Tax Declaration Scheme)

Download the Rule Book & Visit the Official Page

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

Tags: , ,

One comment on “[New] Income Tax Declaration Scheme{IDS} Explained – Key points for You !

  1. Girisha S says:

    Dear Sir,

    How fare if the Property Valuation on the year 2008 is less and now it is more ;suppose if my father sold the land (30X40) on 2008 for the Property valuation 6 lakh and received the amount 18 lakh on the same year purchased the land (30X40) for the 28 lakh however property value of the site is 12 lakh.

    He made registration of the property to My self , My Brother and My Father.
    At moment my father expired on 4th May 2015.

    what would be the above case

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *